गुरुग्राम के IIT Delhi में पढ़ने वाले एक छात्र ऋषभ ने सौर उर्जा वाली एक इलेक्ट्रिक वैन बनाई है । यह वैन सोलर पैनल की मदद से शहर से दूर जहाँ बिजली उपलब्ध नहीं होती वहाँ भी बिजली की सुविधा ली जा सकती है और कहीं भी घूमने जा सकते हैं  जैसे कि मनाली, शिमला, गोवा आदि।

ऋषभ IIT Delhi से Software Engineering की पढ़ाई के साथ – साथ घूमने के भी बहुत शौकीन हैं, इसलिए उन्होंने अपनी अपनी खुद की एक Traveller Van खरीदी हैं, लेकिन जब वो Hill Station पर जाते थे तो उनको लैपटॉप चार्जिंग, म्यूजिक सिस्टम, पंखे और लाइट चलाने का कोई साधन नहीं था।

ऋषभ सौर उर्जा के फायदे जानते थे कि सोलर पैनल लगवाकर Traveller Van के अन्दर लगे उपकरणों को चलाया जा सकता है लेकिन उनको ये जानकारी नहीं थी कि कौन सा सोलर पैनल, कितने वाट का सोलर पैनल, कौन सी बैटरी, कितने वाट का इन्वर्टर और इसका इंस्टालेशन कैसे और कौन करेगा?

Monocrystalline solar panels / source – LOOM SOLAR

ऋषभ ने सोलर पैनलज़ की पूरी जानकरी जानने के लिए लूम सोलर को संपर्क किया और उनकी मदद से ऋषभ ने  वैन की छत और उपकरणों के अनुसार सोलर सिस्टम इंस्टॉलेशन की बारीकियाँ समझीं। पूरी जानकरी देने के बाद लूम सोलर ने ऋषभ को 180 वाट के दो मोनो सोलर पैनल, 1000 वाट ऑवर का लिथियम बैटरी, और 1 किलो वाट का सोलर इन्वर्टर दिया । सोलर पैनल की इंस्टालेशन के लिए Traveller Van को वर्कशॉप में लाया गया जहाँ पर फेब्रिकेटर और सोलर इंस्टालर दोनों मिलकर पैनल स्टैंड और पूरी इंस्टालेशन किया । इंस्टालेशन करते समय सोलर पैनल के लिए लोहे का एक मज़बूत  फ्रेम बनाकर वैन की छत पर अच्छी तरह कसा गया जिससे उच्चे – निचे और ख़राब रास्तो में सोलर पैनल स्थिर रहे। सोलर पैनल और इन्वर्टर बैटरी की वायरिंग इस तरह किया गया जिससे Traveller van की ख़ूबसूरती बनी रहे।

Power Socket Inside Traveller Van / Source – LOOM SOLAR

ऋषभ की ज़रूरत के हिसाब से इस वैन में Power socket जहाँ लैपटॉप, मोबाइल चार्जिंग, मिनी रेफ्रीजिरेटर, म्यूजिक सिस्टम, लाइट, फैन, कॉफी मशीन, वाटर पंप जैसे उपकरण आसानी से चल सकते हैं। अब ऋषभ कहीं भी घूमने जातें हैं तो उनको कभी भी बिजली की कमी महसूस नहीं होती।

ऋषभ की ज़रूरत के हिसाब से इस वैन में Power socket जहाँ लैपटॉप, मोबाइल चार्जिंग, मिनी रेफ्रीजिरेटर, म्यूजिक सिस्टम, लाइट, फैन, कॉफी मशीन, वाटर पंप जैसे उपकरण आसानी से चल सकते हैं। अब ऋषभ कहीं भी घूमने जातें हैं तो उनको कभी भी बिजली की कमी महसूस नहीं होती।

इस सोलर सिस्टम को लगाने का खर्च लगभग 60 हजार रुपए का  हुआ है जिससे ऋषभ घूमने के साथ – साथ पढ़ाई और पार्ट टाइम इनकम भी कर रहे है।

अधिक जानकारी के लिए: